पेट के रोगों पर कारगर इलाज – Remedies on Stomach Dieseases

Published by KK on

काम में व्यस्त होने के कारण ठीक समय पे खाना न खाना, सही मात्रा में भोजन न करना, फास्ट फूड का सेवन करना, कामकाज में बिजी होने के करण हम घर के खाने के बजाय बाहर का खाना ज्यादा पसंद करते हैं। हैवी और ऑइली खाना हमारी रोज की आदत बन चुकी है। इसके चलते हमें पेट की अलग-अलग बीमारियों का सामना करना पड़ता है और पेट साफ न होने के कारण हमें पेट की बीमारियां शुरू हो जाती है। इससे बचने के लिए हम आयुर्वेद के माध्यम से अपना इलाज खुद कर सकते हैं।

  • 5 ml नींबू और 10 ml अदरक का रस सेंधा नमक डालके पीने से पेट के विकार ठीक हो जाते है।
  • हर्डा और सुंठ का चूर्ण 5 ग्राम सुबह बिना खाए पी लेने से पेट का दर्द ठीक होता है।
  • पेट पर हींग लगाने से और हिंग की गोली चने जितनी घी के साथ खाने से पेट फूलने की समस्या ठीक होती है।
  • छाछ में जीरा और सेंधा नमक मिलाकर पीने से पेट फूलने की समस्या ठीक हो जाती है।
  • 3 ग्राम त्रिफला चूर्ण पानी के साथ सुबह सुबह लेने से पेट ठीक रहता है।
  • सुबह एक गिलास पानी में 25 ग्राम पुदीने का रस और 25 ग्राम शहद मिलाकर पीने से गैस की समस्या ठीक हो जाती है।
  • 50 ml अनार का रस पीने से पेट दर्द में आराम मिलता है।
  • 1 ग्राम सरसों का चूर्ण और 2 ग्राम त्रिफला चूर्ण शहद और घी के साथ लेने से सभी प्रकार के पेट दर्द ठीक हो जाते हैं।
  • आंवले का शरबत पीने से और खड़ी शक्कर खाने से आम्लपित्त ठीक हो जाता है।
  • पित्त की उल्टी होने के बाद एक गिलास गन्ने के रस में दो चम्मच शहद डालकर पीने से फायदा होता है और पेट दर्द ठीक हो जाता है।
  • ताजे अनार के जूस में खड़ी शक्कर डालकर पीने से पेट दर्द ठीक हो जाता है।
  • नीम के पत्ते का 20 ml रस में 5 ग्राम खड़ी शक्कर डालकर 7 दिन पीने से पेट की हिट कम हो जाती है।
  • अमरूद की एक या दो बूंदे पानी में डालकर पीने से पेट दर्द ठीक हो।
  • पुदीने के पत्ते का रस, चार चम्मच अदरक का रस, 2 ग्राम हींग, 2 ग्राम सेंधा नमक और 2 ग्राम काला नमक एक साथ मिक्स करके पीने से तुरंत पेट दर्द बंद हो जाता है।
  • फुलगोबी के पत्ते कूट के उसका एक काप रस हर रोज लेने से 7 दिन में पेट की सूजन ठीक हो जाती है।
  • नारियल का तेल 20 ग्राम पीने से पेट के कीड़े मरकर मल द्वारा निकल जाते हैं।

तोह ये थे कुछ उपाय जिनसे आपके पेट की समस्याओं का निवारण हो जाएगा।