कान के रोगों पर कारगर इलाज – Remedies for Ear Diseases

Published by KK on

कान की अलग-अलग समस्याएं होती है जैसे कान में दर्द होना, कान के अंदर से बदबूदार पानी आना ,कान में फोड़े फुंसी होना ,कीड़े होना, कम सुनाई देना, कान के अंदर से तरह-तरह की आवाज में आना ,कान मे चुभन होना ऐसी कान की बहुत समस्या होती है। इससे निजात पाने के लिए हम कुछ घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खे करके और जो हमारी भारत की प्राचीन आयुर्वेदिक प्रणाली है उसका प्रयोग करके हम यह समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

  • सरसों का तेल या राई का तेल लेकर उसमें लहसुन की पंखुड़ियों को उबालें ।उबलने के बाद उसकी 12 बूंदे सुबह शाम कान में डालने से कान के बीमारी में फायदा होता है।
  • दशमुली ,अक्रोड इनके तेल के कुछ बूंदे कान में डालने से कम सुनाई देने की समस्या में आराम पडता है।
  • कम सुनाई देने की समस्या में गाय के ताजे गोमूत्र में एक चुटकी सेंधा नमक डाल के इसे कान में डालने से 8 दिन में फायदा होता है।
  • सफेद मानदार के पके हुए पत्ते साफ करके उन पर राई का तेल लगाएं। वह गर्म करके उसका रस निकालकर उस रस के दो-तीन बूंद सुबह शाम कान में छोड़ने से कम सुनाई देने की समस्या समाप्त हो जाती है।
  • अदरक का रस कान में डालने से कान का दर्द और कम सुनाई देने की समस्या में फायदा होता है।
  • अमृत रस की एक या दो बूंदे नारियल के तेल में मिक्स करके हर रोज रात को सोते समय कान में डालने से कान की बीमारी में फायदा होता है।
  • खजूर के छाल का काढ़ा करके और उसे छान के उसको कान में छोड़ के कान साफ कीजिए । इस उपाय से कान का बहना बंद हो जाता है।
  • जामुन के पत्ते ,आम के पत्ते और कबीट के पत्ते एक प्रमाण में लेकर इनको कूट लीजिए और इनका रस निकालें। और एक चम्मच रस में 1 ग्राम कपूर और 1 चम्मच शहद मिक्स करके कान में डालने से 14 दिन में कान का बहना रुक जाता है।
  • ज्वार के नए पत्तों का रस दो या तीन बूंद कान में डालने से 7 दिन में बहने वाला कान ठीक हो जाता है।
  • तिलवाड़ा के पत्तों को हात पर रगड़ के उसकी चार या पांच बूंदें कान में छोड़ने से कान का दर्द और कान का बहना ठीक हो जाता है।
  • तुलसी के पत्तों का रस गर्म करके उसे ठंडा होने के लिए छोड़ दें। फिर ठंडा होने के बाद कान में डालें इस उपाय से कान का दर्द ठीक हो जाता है।
  • तुलसी के पत्तों का रस तीन या चार बार एक महीना कान में डालने से कम सुनाई देने की समस्या ,कान का दर्द ,और कान की बहने की समस्या ठीक हो जाती है।
  • लौकी के पत्तों का रस चार से पांच बूंदें कान में डालने से 7 दिन में कान का बहना बंद हो जाता है।
  • रार का चूर्ण 10 ग्राम नारियल के तेल में उबालें ठंडा करके छान लेने के बाद उसके चार या पांच बूंद कान में डाल के कान को अच्छी तरह से धो डालें इससे कान का दर्द ठीक हो जाता है।
  • लहसुन की दो कलियां नारियल तेल में उबालें, फिर उसे छान के इस तेल की तीन या चार बूंदों को कान में डालने से 7 दिन में कान का दर्द और कान का बहना ठीक हो जाता है।
  • वच का चूर्ण 2 ग्राम कपूर 2 ग्राम तिल के तेल में इन्हें उबाले। ठंडा होने के बाद इसकी 4/5 बूंदे हर रोज कान में छोड़ने से कान का बहना बंद हो जाता है।
  • वच की मूली पानी में घोट के उसकी चार या पांच बूंदें कान में डालें ,ऐसा करने से कान का बहना बंद हो जाता है।
  • इंदरवारूनी के पत्तों का रस मैं कपूर को घोट के उसके चार बूंद कान में डालने से कान के कीड़े मर जाते हैं।
  • तिलवन के पत्तों का रस कान में डालने से कान के कीड़े मर जाते हैं।

कान के समस्या में ये कुछ उपाय थे जिनसे आप कान की अलग-अलग बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं।